mobile coupons amazon offers today

offers shopclues coupon today

coupons flipkart mobile offer

coupons myntra sale

Home / Poetries / Hindi Poetries / “तलाश” by सुरभी आनंद

“तलाश” by सुरभी आनंद

“तलाश”

 दायरो के मकड़जाल में

       फड़फड़ाता हुआ जीवातमा

   हैं वजूद की तलाश

     आखिर क्यों आया यहां

           उफना रही इच्छाएँ

           कुछ कर गुजरने को

           टिमटिमाती हुई इस लौ मे

           अपने रूप में जीने को

           खुद के प्रयासों से मैनें

           नींव तो बनाई है

           पर, किले बनने के लिए

           दूर की ऊँचाई है

           निकल तू पत्थरो के समुह से

           तुझे रत्न बनना होगा

           तेरे ही वजूदो से

           किसी को अहसास तो होगा

           दायरों की बेड़ियो को

           एक-एक कर उतार

           लड़की है तो क्या हुआ

           अपने पैर तो पँसार

           हैं तुझमे प्रप्रस्फुटित लावा

           अग्नि का रूप लेगा

           यौवन के इस तेज से

           अहंकार को जला देगा

           डर है इक् चट्टान

           चट्टान से टकराएगा

           इस टकराव की स्थिति में

           कौंध-ज्वाला निखर आएगा

           यहीं रूप जननी

           हमारी सवर्णा कहलाएगा !

           © सुरभी आनंद

About admin

Check Also

SHE by Nupur Saxena

SHE She wakes up at five in the morning. She does dusting, sweeping and mopping …

Leave a Reply

Connect with:



Your email address will not be published. Required fields are marked *